रविवार, फ़रवरी 06, 2011

गज़ल















क्या पढे़गा भला कोई \

आंखों से एक सपना खो कर आया हूं ।
अपनों में एक अपना खो कर आया हूं ॥

कांधे पर मेरे हाथ मत रख ऐ रकीब ।
यह लाश बडी़ दूर से ढो कर लाया हूं


न मांग मुझ से मेरी तन्हाईयां इस कदर।
मैं इन्हें अपना सब कुछ खो कर लायाहूं॥


क्या पढे़गा भला कोई इतिहास अब मेरा ।
मैं वो पृष्ठ स्याही में डुबो कर आया हूं ॥


न रुला अब किसी और अंजाम के लिए ।
अपने जनाज़े पर बहुत रो कर आया हूं ॥


निरी प्यास है इन में न कर तलाश पानी ।
मैं इन आंखों में अभी हो कर आया हूं ॥









7 टिप्‍पणियां:

  1. कांधे पर मेरे हाथ मत रख ऐ रकीब ।
    यह लाश बडी़ दूर से ढो कर लाया हूं

    bahut pyari panktiyan
    ek shandar gajal...:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. न रुला अब किसी और अंजाम के लिए ।
    अपने जनाज़े पर बहुत रो कर आया हूं ॥


    निरी प्यास है इन में न कर तलाश पानी ।
    मैं इन आंखों में अभी हो कर आया हूं ॥


    bahut khoob gajal, ek ek gajal dil me uter gayi .badhai .........
    http://amrendra-shukla.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. ओमजी की कविताओं से तो आनंदित होने का सौभाग्य मिलता ही रहता है आज आपकी ग़ज़ल ने भी मन मोह लिया.
    आंखों से एक सपना खो कर आया हूं ।
    अपनों में एक अपना खो कर आया हूं ॥
    वाह क्या शेर कहा है आपने. इतनी उम्दा और मुकम्मल ग़ज़ल के लिए बधाई. प्रणाम !

    उत्तर देंहटाएं
  4. ek-ek shabd kuch keh reha hai. aap ki gazal padh kar usime doob gaya. is gazal ko hum tak pahunchane ke liye dhanyavaad

    उत्तर देंहटाएं
  5. आंखों से एक सपना खो कर आया हूं ।
    अपनों में एक अपना खो कर आया हूं ॥

    some extraordinary intense lines ...
    love it utmost..:)

    उत्तर देंहटाएं
  6. आंखों से एक सपना खो कर आया हूं ।
    अपनों में एक अपना खो कर आया हूं ॥
    बहुत सटीक....अन्तरंग द्वंद्व की सुन्दर अभिव्यक्ति ...हार्दिक बधाई...

    उत्तर देंहटाएं