शनिवार, जनवरी 22, 2011

ओम पुरोहित"कागद" चार हिन्दी कविताएं

चार हिन्दी कविताएं


* द्वंद्व *

जब तलक
वर्ण छितरे रहे
न बटोर सके
मूरत अमूरत संवेदनाएं !

जब से लगे हैँ बनाने
अपने अपने समूह
उतर आए उनमेँ
दृश्य-अदृश्य-सदृश्य
आकार-निराकार
उभरने-झलकने लगे
सुख-दुख-मनोरथ
आकांक्षाएं-लालसाएं
द्वंद्व-युद्द
अकारण सकारण सकल !


समवेतालाप
और एकालाप के
वशीभूत हो
मुखरित होने के
अपने संकट हैँ
रोना ही तो है यह
सब के बीच अकेले मेँ !

* सम्बन्ध *

टूट कर
अलग हो जाए पत्ता
मगर
एहसास रहता है
शेष शाख पर
सम्बन्धोँ के
अतीत होने का !


थे जो कभी
साकार मुखर
आज निराकार
धार असीम मौन
स्मृतियोँ मेँ
फिर फिर से
लेते हैँ आकार
बतियाऊं कैसे
स्मृतियोँ के एहसास से !


सम्बन्ध नि:शब्द जन्मे
नि:शब्द रहे
नि:शब्द ही
कर गए प्रयाण
अर्थाऊं कैसे
असीम मौन औढ़ कर !


* फासले *

कदम हम चार चले
सामने तुम्हारे
तुम भी चले
कदम चार
मगर
अपने ही पीछे !
यूं न कभी
अंत हुआ सफर का
न फासले ही कम हुए !


आहटोँ पर
कान लगाए
चलते रहे
चलते रहे
न बतियाए
किसी पल
सफर के बीच
पड़ाव तलक
न आया जो कभी !


बस
परस्पर मुस्कुराहटेँ
ढोती रहीँ
अनाम सम्बन्धोँ को
हमारे बीच
अनवरत !

* काण *

रात भर
बात बेबात
जागने वालोँ को
क्या और क्योँ
अलग से विशेषण दूं
दोस्त कह दूं तो भी
तराजू के पलड़ोँ मेँ
काण तो दिख ही जाएगी !

तुम कहो तो
तुम्हेँ "मैँ" कह दूं !

3 टिप्‍पणियां:

  1. समवेतालाप
    और एकालाप के
    वशीभूत हो
    मुखरित होने के
    अपने संकट हैँ
    रोना ही तो है यह
    सब के बीच अकेले मेँ !

    .............

    रात भर
    बात बेबात
    जागने वालोँ को
    क्या और क्योँ
    अलग से विशेषण दूं
    दोस्त कह दूं तो भी
    तराजू के पलड़ोँ मेँ
    काण तो दिख ही जाएगी !

    तुम कहो तो
    तुम्हेँ "मैँ" कह दूं !..........
    ..........

    अध्भुत.......

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खरी बात, अच्छा अंदाज़ है ये भी. द्वन्द सम्बन्ध फ़ासले सभी एक से बढ़ कर एक

    उत्तर देंहटाएं