शुक्रवार, मार्च 04, 2011

म्हारी ऐक राजस्थानी कविता















OOO ओ म्हारो गांव है OOO
          ओम पुरोहित " कागद "


ओज्यूं पींपळ री छांव है
मघली-जगली नांव है
बूक हथाळ्यां ठांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !


जद दिन बिसूंजै
जगै दीया
चांद रै चानणै
टींगर खेलै दडी़ गेडिया ।
बिजळी रै खम्बां
भैंस बंधै
तारां री बणै तण्यां
बिजळी रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !


करसां बोवै
साऊ खावै
बापू रै नारां रो
गांव में खाली नांव है
बिजळी कड़कै
ठंड पडै़ करसां खसै खेत में
खातां में ज़मींदार रो नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !


अंगूठां री नीं सूकी स्याई
मघली जाई
जगली परणाई
मा गैणां रख रिपिया ल्याई
साऊकार री बै’यां में
म्हारी सगळी पीढी रो नांव है
गांव सगळो पड्यो अडाणै
बैंकां रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !


क-मानै करज़ो
ख-खेतां खसणो
ग=गरीबी
घ-घरहीण
इस्सी बरखडी़
गांव री चौपाळ है
पांच सूं पच्चीस रा टींगर
खेतां-रो’यां चरावै लरडी़
माठर फ़िरै सै’र में
गांव में स्कूल रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !


अणखावणां-अणभावणां
बणै नेता बोटां रै ताण
ठग ठाकर है म्हारा
गेडी रै ताण
अडाणै री कहाणी कै
खेत दबाणै री बाणी दै
घेंटी मोस बोट नखावै
जीत परा फ़ेर ढोल बजावै
लोकराज रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !


अंटी ढील्ली
खेत पाधरो
अंटी काठी
खेत धोरां पर
अळगो-आंतरो
मंतरी री सुपारसां
खेत मिलै सांतरो
खेत-खतोन्यां
हक-हकूकतां
ज़मींदार रै हाथ में
गांव बापडो़ फ़िरै गूंग में
चारूं कूंटां पटवारी रो दांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !








5 टिप्‍पणियां:

  1. aaapne sir jo bhi likha hain woh bahut he acha or pyara likha hain

    aaj me apne gaanv se 8 year se bahar hu
    aaj sab yaad aa gaya mujhe
    ki me bhi mere gaav me rahta tha, khelta tha, maa ke haath ka sogra, dadi ke haath ki kacharfali ki sabji
    bahut miss karta hu.
    or haa thanks from all my rajasthani friends

    उत्तर देंहटाएं
  2. चित्र बहुत सुंदर लगा किसी नदी के किनारे का लगता हे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. चोखी कविता मांडी है भाई जी
    फ़ेर भी सोणो अपणो गाँव है।

    राम राम

    उत्तर देंहटाएं
  4. गांव री हकीकत रो चित्राम करतोड़ी गजब री कविता बणाई धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं