रविवार, अप्रैल 01, 2012

नयन में आग

.
*~~* नयन में आग *~~*

जो देखो तो तन में आग ।
ना देखो तो मन में आग ।।
निकलें जो कभी घर से तो ।
इस समूचे वतन में आग ।।
बिखरे जो मुस्कान आपकी ।
हो मुर्दों के कफन में आग ।।
चल दो लहरा कर कदम दो।
तो लगे सब्ज चमन में आग।।
झुलस ही जाए बुत्त से बने ।
खिलोनों के नयन में आग ।।

1 टिप्पणी:

  1. bahut hi umda sir ji...नयन की भाषा
    नयन ही जाने
    मैं कैसे जानू अंजानी भाषा

    उत्तर देंहटाएं