सोमवार, मार्च 15, 2010

राजस्थानी का भविष्य सुनहरा है : कागद


कवि और आलोचक नीरज दइया की वेब पत्रिका "नेगचार" में मेरा एक संवाद प्रकाशित हुआ है, साथ ही इस में एक वीडियो मेरी "कालीबंगा" कविता का जारी हुआ है http://www.youtube.com/watch?v=Bz_N16JttCQ - वर्तमान राजस्थानी कविता में एक भरोसेमंद नाम है कवि श्री ओम पुरोहित कागद । पिछले वर्ष श्री कागद के राजस्थानी में दो कविता संग्रह बोधि प्रकाशन, जयपुर से पंचलड़ी और आंख भर चितराम प्रकाशित हुए । इन दिनों आपकी कालीबंगा शीर्षक से लिखी कविताएं चर्चा में है । आपका ब्लॉग है- www.omkagad.blogspot.com इस पर कवि का पूरा परिचय और रचनाएं देखी जा सकती है । पिछ्ले दिनों किसी कार्य के सिलसिले में कागद जी सूरतगढ़ आए थे तब उनसे कुछ बातें हुई । उनकी बातों को प्रश्नोत्तरी रूप में यहां प्रस्तुत किया जा रहा है-

यह चित्र एक संयोग है और मेरा सबसे पहला सवाल यही है कि क्या आप आरंभ से ही गांधीवादी विचार-धारा के रहे हैं ? यानी जो भी बुरा है उस से दूर रहते हैं ?

मैं गांधीवादी तो नहीं हूं वैसे मैं कोई वादी भी नहीं हूं लेकिन सम्मान सब का करता हूं । बुरे और बुराई से तो सबको दूर रहना चाहिए ….. पूरा संवाद देखें- www.wpnegchar.blogspot.com कालीबंगा शीर्षक कविताएं पढ़ें- http://omkagad.blogspot.com/2010/03/blog-post_5920.html और एक कविता-पाठ इन कविताओं का नए रूप-रंग में देख सकते हैं-

http://www.youtube.com/watch?v=Bz_N16JttCQ

1 टिप्पणी:

  1. मिनख लाजंमै री चोभ तांई पूगती अर उण री सील सूं लगोलग बधती 'काळीबंगा` सिरैनांव री आं कवितावां मांय ठाह नीं कितंणा बारंणा अछंट खुलै अर सईकां सूं भेळी-दब्योड़ी पूंन रौ रळकौ काळजै मांय उतरतौ जावै......घंणा घंणा रंग सा !
    पूर्ण ार्मा 'पूरण`

    उत्तर देंहटाएं